facts-and-opinion, home2, latest-post

Why we tie Mauli or Kalava in hand?

17:55 Let us first understand, what does Mauli or Kalava mean? The literal meaning of Mauli in Sanskrit is ‘crown’, which means above all. Well, Mauli is a sanctified thread which is also known as ‘Kalava’. This thread is dyed in red and yellow combination. Mauli holds tremendous significance in Hindu culture since ancient times. As mentioned above the literal meaning of Mauli is the crown, a crown is always placed above. Lord Shiva is referred as ‘Chandramauli’ as he adornes the crescent moon on his matted hair. According to the ancient Hindu scriptures, it is said

home2, latest-post, Reiki

Is Reiki effective on diabetes?

Diabetes is a common and chronic condition in the modern world, affecting millions of people worldwide. Although there are treatments available to manage the condition, there is none to cure it. It is associated with several other complications like high blood pressure, kidney damage, heart damage, eye damage, etc. At the physical level, it is caused by the inability of the body to make adequate amounts of insulin (type I) or to utilize insulin (type II), resulting in high blood sugar levels. Diabetes is a progressive condition, and tough to deal with. So it is important

home2, latest-post, Rudraksh

१२ मुखी रुद्राक्ष – लाभ, शक्तिया और महत्व

बारह मुखी रुद्राक्ष के अधिपति देवता भगवान् सूर्य को माना जाता है। जिस प्रकार सूर्य के बिना जीवन संभव नहीं है, सूर्य की रोशनियाँ ही हमें सिखाती है कि जो भी है वो आज और अभी है, सूर्य जिस प्रकार हमें यह शिक्षा प्रदान करते है कि समय से बड़ा कुछ भी नहीं है और जो कुछ है वो वर्तमान समय ही है, उसी प्रकार यह रुद्राक्ष हमें यह शक्ति प्रदान करता है कि जो कुछ है अभी है, हमारा वर्तमान ही सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है। १२ मुखी रुद्राक्ष हमें आज और अभी का महत्व समझाता है और उसी पर ध्यान केंद्रित कर, उसे सुधरने में महत्वपूर्ण योगदान देता है। जिस प्रकार से सूर्य कि किरणे सारे अंधेरो को चीरते

home2, latest-post, Reiki

How Reiki strengthens your immune system?

What a wonderful gift we have with Reiki in this time of encountering a new visitor to our planet, Coronavirus. The standard hand placements that we learn in Reiki level I are a guide to help get us moving into using Reiki. As our use of Reiki evolves, the way we use Reiki evolves as well or one would hope it does. Our immune system is what fights off any intruders. When it is healthy it can defeat invading pathogens. Our immune system is comprised of white blood cells produced in the thymus and bone marrow, the lymphatic system, and the spleen. The immune system is i

home2, latest-post, Reiki

What is Reiki and how does it helps in your personal development?

Reiki for years has been used as a healing practice. A human brain is dominated by one or two of four thinking modes which include analytical, sequential, interpersonal, and imaginative thinking. Hence you need a therapeutic method to balance all the four thinking modes to make the best use of your skills and explore new paradigms be it in your personal or professional life. Self-development is not something new, various practices help you in this self-growth journey. Some of the most recommended ways are meditating, reading and learning new skills. But not all methods d

festivals-and-occasions, home2, latest-post

गुप्त नवरात्रि कब से है? आईये जानते हैं इसकी विशेषता एवं पूजन

गुप्त नवरात्रि के दौरान गुप्त रूप से देवी दुर्गा के विभिन्न रूपों को ‘शक्ति’ के रूप में जाना जाता है। गुप्त नवरात्रि के पीछे मुख्य कारण क्या है जानते है आईये, कि देवी की पूजा गुप्त रूप से की जाती है, जो बाकी दुनिया से छिपी होती है। यह मुख्य रूप से साधुओं और तांत्रिकों द्वारा शक्ति की देवी को प्रसन्न करने के लिए व तंत्र साधना के लिए मनाया जाता है जो हमेशा से गलत सोच है ओर कारण भी गुप्त नवरात्रि हो या नवरात्रि हमेशा साधक या सिद्ध संत ,तांत्रिक हमेशा जो साधनाये करते है उनको गुप्त रखा जाता है यही सत्य है उनको उजागर ना करके गोपनियता बनाये रखता है । जिनकी चर्चा केवल गुरू शिष्य

home2, latest-post, ratna-and-upratna, Reiki

Green Aventurine: It’s uses and benefits

Green Aventurine is a green crystal that ranges from translucent to opaque. Green Aventurine has a green shade that varies from pale to deep, dark green. It gets its green shade from Fuchsite inclusions. Mica inclusions give Green Aventurine a sparkly, shimmery appearance with a glassy lustre. Though it also forms in blue, red to reddish-brown, dusty purple, orange or peach, yellow, and silver gray. Its name is derived from the Italian a Ventura or all’avventura, meaning “by chance,” and refers to the Italian glass from the 1700s, produced when a worker accidentally drop

home2, latest-post, Reiki

रेकी एक परिचय – रेकी चिकित्सा, और इसके फायेदे

रेकी उपचार वैकल्पिक चिकित्सा की एक लोकप्रिय पद्धति है। इससे शारीरिक और मानसिक दोनों तरह के लाभ प्राप्त होते हैं। रेकी उपचार से तनाव कम होता है व मनोदशा बदलती है। शरीर के रोगों में राहत मिलती है और कुछ बड़े रोगों के लक्षणों से बचाव होता है। 1- रेकी से तन-मन को लाभ रेकी एक वैकल्पिक और प्राकृतिक चिकित्सा विधि है। यह एक जापानी शब्द है, जिसका अर्थ होता है जीवन शक्ति-प्राण शक्ति। यह शक्ति हम सभी लोगों के पास होती है और हमारा जीवन इस शक्ति पर ही चलता है। रेकी उपचार में हाथों की हथेलियों से छूकर उपचार किया जाता है इसलिए यह पद्धति स्पर्श चिकित्सा की श्रेणी में आती है। रेकी उपचारक

festivals-and-occasions, home2, latest-post

जानिए नवरात्रि में माँ के किस रूप को कौन सा भोग पसंद है?

17 अक्टोबर यानी शनिवार से शारदीय नवरात्रि (नवरात्रि 2020) शुरू हो रहे हैं. स्‍वर्ग से धरती पर उतर रहीं देवी के लिए यह धरती उनका मायका है. अतः घर आई बेटी को अच्छा भोजन और श्रृंगार अर्प‍ित किया जाता है. आइए जानते हैं कि इन नौ दिनों में मां दुर्गा को क्या-क्या भोग लगाना चाहिए. शंकरजी की पत्नी एवं नव दुर्गाओं में प्रथम शैलपुत्री दुर्गा का महत्व और शक्तियां अनंत है. अगर आप बीमारी से परेशान हैं तो इस दिन मां को घी का भोग लगाएं. आपके सारे दुःख ख़त्म होते हैं. द्वितीया तिथि पर मां ब्रह्मचारिणी  की पूजा होगी. नवरात्रि के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी को शक़्कर, सफेद मिठाई एवं मिश

festivals-and-occasions, home2, latest-post

नवरात्र में माँ के स्वरूप के कुछ पूजा एवं नियम

मां दुर्गा की आराधना को समर्पित नवरात्रि के पहले दिन कलश या घट स्थापना से व्रत का प्रारंभ होता है। नवरात्र के प्रथम दिन कलश स्थापना कर व्रत का संकल्प लेना चाहिए। नवरात्र व्रत की शुरुआत प्रतिपदा तिथि को कलश स्थापना से की जाती है। नवरात्र के 10 दिन प्रात: और संध्या के समय भगवती दुर्गा की पूजा करनी चाहिए। श्रद्धानुसार अष्टमी या नवमी के दिन हवन और कुमारी पूजा कर भगवती को प्रसन्न करना चाहिए। नवरात्र में हवन और कन्या पूजन अवश्य करना चाहिए। नारदपुराण के अनुसार हवन और कन्या पूजन के बिना नवरात्र की पूजा अधूरी मानी जाती है। साथ ही नवरात्र में मां दुर्गा की पूजा के लिए लाल रंग के

Call Now!
Select your currency
INRIndian rupee