Special 40% Discount for First 10 Customers use Coupon Code: FIRST10

रेकी एक परिचय – रेकी चिकित्सा, और इसके फायेदे

रेकी उपचार वैकल्पिक चिकित्सा की एक लोकप्रिय पद्धति है। इससे शारीरिक और मानसिक दोनों तरह के लाभ प्राप्त होते हैं। रेकी उपचार से तनाव कम होता है व मनोदशा बदलती है। शरीर के रोगों में राहत मिलती है और कुछ बड़े रोगों के लक्षणों से बचाव होता है।

1- रेकी से तन-मन को लाभ

रेकी एक वैकल्पिक और प्राकृतिक चिकित्सा विधि है। यह एक जापानी शब्द है, जिसका अर्थ होता है जीवन शक्ति-प्राण शक्ति। यह शक्ति हम सभी लोगों के पास होती है और हमारा जीवन इस शक्ति पर ही चलता है। रेकी उपचार में हाथों की हथेलियों से छूकर उपचार किया जाता है इसलिए यह पद्धति स्पर्श चिकित्सा की श्रेणी में आती है। रेकी उपचारक के हाथों की दोनों हथेलियों से रेकी ऊर्जा प्रवाहित होती है, जो छूने पर स्वयं उसको या दूसरे व्यक्ति को उपचार में सहायता पहुंचाती है। रेकी उपचार से हृदय रोग, कैंसर, अस्थि भंग, अनिद्रा, थकान, सिरदर्द, चर्म रोग, डिप्रेशन आदि में फायदा पहुंचता है।

2- तनाव से छुटकारा।

रेकी का सबसे बड़ा लाभ यह है कि यह तनाव के स्तर को कम करती है। और आपको आराम महसूस होता है दरअसल, ये जापानी ऐनर्जी हीलिंग थेरेपी आपके शरीर को शांत करने और तनाव को कम करने के लिए तैयार की गई है। आप रेकी के पहले स्तर पर ही इसका ये फायदा पा सकते हैं।

3- मनोदशा में बदलाव

मनोदशा या मूड बदलना काफी हद तक उदासी और चिंता से जुड़ा हुआ है। रेकी से मूड पूरी तरह बदला जा सकता है। इसके फायदे नकारात्मक मनोदशा वाले लोगों को अधिक होते हैं। जब एक बार आपकी मनोदशा बेहतर होने लगती है तो आपकी चिंताएं भी दूर होने लगती हैं। साथ ही साथ, आपका गुस्सा और चिड़चिड़ापन दूर करने में भी रेकी उपचार से मदद मिलती है।

4 – शारीरिक रोगों में राहत

भावनात्मक और मानसिक लाभ के अलावा, रेकी उपचार से शारीरिक लाभ भी प्राप्त होते हैं। बहुत सारे लनी शारीरिक समस्याओं से निपटने के लिए अन्य वैकल्पिक चिकित्साओं का सहारा लिया, अंत में उन्हें रेकी से ही फायदा मिला। शरीर में जीवन ऊर्जा के बढ़ जाने से इम्यूनिटी सिस्टम को मजबूती मिलती है और शरीर के बहुत सारे अंगों में संतुलन बनता है। थकान, कटिस्नायुशूल, सिरदर्द, गठिया, दमा, अनिद्रा, और रजोनिवृत्ति के से जुड़े लक्षणों में रेकी से लाभ मिलता है।

5 – हर उम्र के लिए लाभकारी

किसी भी शारीरिक, मानसिक या भावनात्मक समस्या के उपचार के लिए रेकी सब लोगों के लिए हर जगह उपलब्ध है। नवजात से लेकर बुजुर्ग तक, हर उम्र के लोग रेकी उपचार का लाभ उठा सकते हैं। यहां तक कि पालतु जानवरों को भी रेकी से फायदा पहुंचता है, बिल्कुल उसी तरह जिस तरह इंसानों को। इसके साथ ही, रेकी का कोई साइड इफेक्ट भी नहीं होता।

6- भविष्य की समस्याओं से बचाव

हालांकि रेकी का इस्तेमाल वर्तमान की शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक समस्याओं को ठीक करने के लिए किया जाता है। लेकिन, रेकी से अतीत के ऐसे दुखों या समस्याओं का समाधान भी किया जा सकता है जो आपके विकास में बाधा डाल रही हो या आपके शरीर, मन और आत्मा को प्रभावित कर रही हो। उपचार का ये रूप भविष्य में होने वाली समस्याओं का बचाव भी कर सकता है। रेकी के सारे स्तर का अनुभव कर चुके उपचारकों ने ये माना है कि रेकी से भविष्य में आने वाली समस्याओं का बचाव मुमकिन है।

7- गंभीर रोगों से बचाव

रेकी, या कोई और मानसिक-शारीरिक थैरेपी कैंसर का इलाज नहीं कर सकती। लेकिन, वो उससे जुड़े लक्षणों का इलाज कर सकती है। कैंसर से जुड़े लक्षण, जैसे कि डिप्रेशन, दर्द और थकान, इनके लिए रेकी फायदेमंद होती है। इसी तरह रेकी से अस्थमा व गठिया में भी राहत महसूस की जा सकती है।

8- भावनात्मक स्वष्टता और आध्यात्मिक विकास

रेकी सिर्फ शारीरिक नहीं, भावनात्मक उपचार भी है। रेकी का एक सबसे बड़ा प्रभाव ये है कि ये आपकी प्यार करने की क्षमता बढ़ाती है, इससे आप लोगों के साथ गहरा जुड़ाव महसूस करते हैं। ये आपके रिश्ते को मजबूत बना सकती है। रेकी आंतरिक शांति पैदा करती है, जो कि आध्यात्मिक विकास के लिए जरूरी है। ये आपकी भावनाओं को शुद्ध बनाती है।

हमारी ईमेल आईडी [email protected] पर संपर्क कर सकते है।

हमारे facebook लिंक https://www.facebook.com/JayMahakal01/ को लाइक और शेयर करें ट्विटर और इंस्टाग्राम पर फॉलो करे हमारा handle है @jaymahakaal01 और नित नई जानकारियो के लिए हमसे जुड़े रहिये और विजिट करते रहिए www.jaymahakaal.com

हिन्दू संस्कृति या सनातन धर्म के बारे में, व्रत, त्योहार की तिथि नियम जैसे किसी भी प्रकार की जानकारी साझा करने हेतु अथवा रेकी, नुमेरोलॉजी, हीलिंग, रुद्राक्ष, क्रिस्टल, कुंडली, वास्तु, हस्त रेखा, विवाह, घर, धन में कमी, प्रमोशन, नौकरी इत्यादि से सम्बंधित कोई समस्या हो तो आप हमें इस नंबर पर व्हाट्सप्प कर सकते हैं 9152203064

Like this article?

Share on facebook
Share on Facebook
Share on twitter
Share on Twitter
Share on linkedin
Share on Linkdin
Share on pinterest
Share on Pinterest