क्यों लटका है शिव के गले में सर्प?

भगवान शिव जितने रहस्यमयी हैं, उनके वस्त्र व आभूषण भी उतने ही विचित्र हैं। सांसारिक लोग जिनसे दूर भागते हैं भगवान शिव उसे ही अपने साथ रखते हैं।

भगवान शिव एकमात्र ऐसे देवता हैं जो गले में नाग धारण करते हैं। देखा जाए तो नाग बहुत ही खतरनाक जिव है, लेकिन वह बिना कारण किसी को नहीं नुकसान पहुंचाता। नाग पारिस्थितिक तंत्र का महत्वपूर्ण जीव है।

जाने-अंजाने में ये मनुष्यों की सहायता ही करता है। कुछ लोग डर कर या अपने निजी स्वार्थ के लिए नागों को मार देते हैं। लाइफ मैनेजमेंट के दृष्टिकोण से देखा जाए तो भगवान शिव नाग को गले में धारण कर ये संदेश देते हैं कि जीवन चक्र में हर प्राणी का अपना विशेष योगदान है।

इसलिए बिना वजह किसी प्राणी की हत्या न करें। और यही संदेश देने के लिए भगवान शिव अपने गले में सर्प धारण करते हैं।

Like us on facebook:

हमें अपनी राय से अवगत कराये ताकि हम आपको आपके हिसाब से आर्टिकल्स दे सके। जय महाकाल।।