नौ मुखी रुद्राक्ष माँ दुर्गा द्वारा शाषित रुद्राक्ष है, नौ मुखी रुद्राक्ष के बारे में पुराणों में जो वर्णन मिलता है उसके अनुसार नौ मुखी रुद्राक्ष नव दुर्गा की शक्तियों को अपने अंदर समाहित करता है, माँ दुर्गा या शक्ति रूप के पुजारियों को यह रुद्राक्ष अवश्य धारण करना चाहिए, यह रुद्राक्ष सारे पापो से दूर करते हुए हमें भौतिक सुखो की प्राप्ति कराता है और मोक्ष के मार्ग पर अग्रसर करता है। इस रुद्राक्ष को धारण करने के बाद अगर श्रीयंत्र की पूजा की जाती है तो माँ लक्ष्मी की कृपा जातक को अवश्य ही प्राप्त होती है। नौ मुखी रुद्राक्ष में माँ दुर्गा के नवो रूप का समावेश माना जाता है इसलिए इस रुद्राक्ष को धारण करने वाले को, सात्विक जीवन जीने की सलाह दी जाती है और उससे यह अपेक्षा की जाती है कि वह इसे अपने शरीर पर धारण करने के बाद मांस, मछली, लहसुन, प्याज, मदिरा आदि का त्याग कर देगा।

महत्त्व:
१. नौ मुखी रुद्राक्ष धारण करने वाले को कभी भी भूत, प्रेतों और बुरी आत्माओ कि दिक्कत नहीं होती है।
२. नौ मुखी रुद्राक्ष में माँ दुर्गा कि शक्तिया समाहित है इसलिए यह रुद्राक्ष धारक को हर प्रकार के दुश्मनो पर विजय प्राप्त कराता है।
३. नौ मुखी रुद्राक्ष धारक को माँ दुर्गा का कृपा पात्र बनता है और उसके पापो और परेशानियो का शमन करता है।
४. राहु के बुरे प्रभावों को काम करता है।
५. जिस मनुष्य के सामने लगातार चुनौतियां आती रहती हो या जिसका भाग्य साथ ना देता हो उसे इस रुद्राक्ष को धारण करने से अत्यधिक लाभ कि प्राप्ति होती है।

लाभ:
१. नौ मुखी रुद्राक्ष धारक को माँ दुर्गा की कृपा का पात्र बनाता है।
२.इस रुद्राक्ष को धारण करने वाले को माँ दुर्गा की कृपा से बहादुरी, साहस, धीरज, नाम और प्रसिद्धि प्राप्त होती है ।
३. यह रुद्राक्ष धारक को सकारात्मक, गतिशील और निडर बनाता है।
४. ऐसा माना जाता है की अगर इस रुद्राक्ष को ताम्बे के बर्तन में डुबो कर सर्पदंश से पीड़ित व्यक्ति को वो जल पीला दिया जाए तो जहर का असर समाप्त हो जाता है।

चिकित्स्कीय लाभ:
१. यह रुद्राक्ष दिमाग और स्नायु तंत्र की परेशानियों को दूर करता है।
२. नसों की परेशानियों को दूर करता है।
३. मनोवैज्ञानिक विकार जैसे भय, भ्रम और चिंताएं दूर करता है।

राशि विशेष:
देवी की उपासना करने वाले सभी जातकों को नौ मुखी रुद्राक्ष अवश्य धारण करना चाहिए।

रुद्राक्ष मंत्र:
९ (9 ) मुखी रुद्राक्ष को धारण करने का मन्त्र है:
“ॐ ह्रीं हूँ नमः”
९ मुखी रुद्राक्ष को आप पूर्णिमा, संक्रांति या फिर ग्रहण के दिन बाए हाँथ पर धारण कर सकते है।
अगर आप के पास भी रुद्राक्ष से सम्बंधित सवाल या जानकारी हो तो आप हमसे साझा करे, रुद्राक्ष प्राप्त करने हेतु भी आप हमसे हमारी ईमेल आईडी askus@jaymahakaal.com, पर संपर्क कर सकते है। हमें फ़ेसबुक,इंस्टाग्राम, एवं ट्विटर पर फॉलो करे हमारा हॅंडल है @jaymahakaal01  

 

Tagged With:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Call Now!
Select your currency
INRIndian rupee