Rudraksh

१० मुखी रुद्राक्ष: शक्तियां एवं महत्त्व

दस मुखी रुद्राक्ष भगवान विष्णु के आठवे अवतार भगवान श्रीकृष्ण का प्रतिनिधित्व करता है, यह रुद्राक्ष हर ग्रह से जुड़ा हुआ माना जाता है, इसलिए इसे पहनने पर धारक की दसो दिशाओ

में रक्षा होती है और यह रुद्राक्ष धारक के लिए एक कवच का कार्य करता है। यह रुद्राक्ष धारक की किसी भी ग्रह से उत्पन्न दोषो को दूर करते हुए हर प्रकार की नकारात्मक ऊर्जा से धारक का बचाव करता है।

भगवान कृष्ण इस विश्व के सभी जीवो की रक्षा करने वाले माने जाते है और उसी प्रकार यह रुद्राक्ष इसके धारक की हर प्रकार से रक्षा करता है। इस रुद्राक्ष को सेनाध्यक्ष भी माना जाता और पुराणों के अनुसार यह भगवान विष्णु का प्रतिनिधित्व भी करता है, ऐसा माना जाता है की १० मुखी रुद्राक्ष के २२ मनको को शरीर के अलग अलग भागो पर धारण करने से धारक को त्रिदेवो का आशीर्वाद प्राप्त होता है।

महत्त्व:

१. दस मुखी रुद्राक्ष धारक को किसी भी ग्रह के बुरे प्रभाव से बचाता है।

२. दस मुखी रुद्राक्ष धारक की काले जादू, नजर लगने, ईर्ष्या और असामयिक मृत्यु से बचाता है।

३. भूत प्रेतों से सुरक्षा प्रदान करता है एवं वास्तु द्वारा जनित बुराइयों को भी दूर करता है।

४. धारक के अंदर सुरक्षा की भावना का संचार करता है।

Like us on facebook:

हमें अपनी राय से अवगत कराये ताकि हम आपको आपके हिसाब से आर्टिकल्स दे सके। जय महाकाल।।